Sunday, 17 January 2010

दिल तो बच्चा है मानता ही कहाँ है,
वो ये दुनिया के खेल जानता कहाँ है,
उसके लिए तो जिन्दगी है एक कटपुत्ली,
पर रिश्तों की डोर ये सम्भालता ही कहाँ है।
उल्लास सा काया इस डोर के जाल में पंख है फड़फड़ाता,
पर ये पागल मन उड़ना जानता ही कहाँ है।

तेरे बिना जिन्दगी अधूरी है आज,
ये अधूरापन कल हो ना हो,
कल जब आसमान पर चमकेगा बन के सूरज,
तेरी रोशनी में छुपा ये तारा हो ना हो,
अच्छा है तू चाँद ही रह
और मैं सितारों में टिमटिमाता तारा,
लगने दे ग्रहण उस सूरज को,
उसके भी वजूद की खबर हो ना हो।

Dil to baccha hai manta kahan hai
woh yeh duniya khel janta kahan hia
uske liya to jindagi hai ek katputli
par rishto ki door ka sambhalta kahan hia
ulazz sa kaya hia maan is door ke jaal main pank hia phadpharata,
parr yeh pagal maan udnaa janta kahan hia

tera bina jindagi adhuri hai aaj ,
yeh adhurapan kal ho na ho
kal jab assman tu chakega ban ke suraj
teri roshni main chupa yeh tara ho na ho;
accha hai k tu chand hi rah ,
aur main teri sirahane timtimata tara ;
Lagan de grahan uss suraj ko,
usse bhi tere wajud ki kahbar toh ho

1 comment:

Melony Fisher said...


Wonderful blog! I found it while searching on Yahoo News. Do you have any tips on how to get listed in Yahoo News? I've been trying for a while but I never seem to get there! Cheers facebook login